grownwithus

हुमायूँ-(1530-1526 ई.)


प्रांतीय व्यवस्था

मुल्तान,काबुल,कंधार,पंजाब

कामरान

संभल

अस्करी

मेवात

हिन्दाल

बदख्शां

मिर्जा सुलेमान

इसी समय राणा सांगा की रानी कर्णवती ने हुमायूँ को राखी भेजकर उससे मदद मांगी थी तथा हुमायूँ विरोचित आचरण करते हुए उसके गुहार (पुकार) के जवाब में सहायता के लिए पहुँच गया।

चौसा की लड़ाई (मार्च,1539)

कन्नौज/ बिलग्राम का युद्ध ( 17 मई, 1540)

लेनपुल ने हुमायूँ पर टिप्पणी करते हुए कहा- हुमायूँ जीवन भर लड़खड़ाता रहा और लड़खड़ाते हुए अपनी जान दे दी।

चूँकि हुमायूँ ज्योतिष में विश्वास करता था, इसलिए उसने सप्ताह के सातों दिन सात रंग के कपड़े पहनने के नियम बनाए थे। वह मुख्यतः रविवार को पीला, शनिवार को काला एवं सोमवार को सफेद कपड़े पहनता था।